Nurse consultant

पिछले कुछ महीनों से पूरी दुनिया इस कोरोना महामारी से जूझ रही हैं। इस बीमारी से आम जनता को बचाने की जिम्मेदारी डॉक्टर्स और नर्सेज पर हैं। भारत सरकार ने भी महामारी के बाद से स्टूडेंट्स को नर्सिंग करने के लिये प्रोत्साहित किया हैं। इसी बीच दुनियाभर में नर्सो और फ्रंट लाइन वर्कर्स की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिये इंटरनेशनल कॉउन्सिल ऑफ नर्सेज(ICN) व CGFNS इंटरनेशनल ने मिलकर एक नया Certification शुरू किया हैं। जिसका नाम सर्टिफाइड ग्लोबल नर्स कंसल्टेंट्स (CGNC) रखा गया हैं। 

CGFNS के अनुसार पूरा विश्व इस समय नर्सेज व डॉक्टर्स की अहमियत समझ चुका है और इस वर्कफोर्स को बढ़ाने के लिये कई प्रयास भी कर रहा हैं। लेकिन एक रिपोर्ट के अनुसार इस दशक के अंत तक विश्व मे लगभग 4 मिलियन नर्सेज की कमी हो जायेगी, जिसका एक बड़ा हिस्सा रिटायर्ड नर्सेज बनेंगी। ऐसे में 2030 में नर्सेज की होने वाली कमी को दूर करने के लिए और कई भावी नर्सेज को प्रेरित करने के लिये ICN व CGFNS ने इस सर्टिफाइड ग्लोबल नर्स कंसल्टेंट्स (CGNC) कार्यक्रम की शुरुआत की है।

इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज (ICN) और CGFNS ने असाधारण क्षमताओं वाली नर्सेज को पहचानने और उन्हें सर्टिफाइड ग्लोबल नर्स कंसल्टेंट्स (CGNC) के रूप में प्रमाणित करने के लिए इस certification की शुरुआत की है। साथ ही इस सर्टिफिकेट की मदद से स्वास्थ्य सेवा में नर्सो के योगदान, उनकी पेशेवर व शैक्षणिक उपलब्धियों व  उनकी विशेषज्ञता आदि को चिन्हित किया जा सकेगा।

इस सम्बन्ध में हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ICN के अध्यक्ष एनेट केनेडी ने बताया- “इस समय ICN दुनिया की लगभग 27 मिलियन नर्सो की वैश्विक आवाज हैं और हम सभी जानते है कि जब किसी स्वास्थ्य नीति में नर्सेज को शामिल किया जाता है तो वह नीतियां ओर भी लाभप्रद हो जाती हैं। नर्सेज के पास इन नीतियों में शामिल होने के लिये एक सीट अवश्य होनी चाहिये, जो यह गारंटी दे कि हमारे पास मान्यता प्राप्त नर्स विशेषज्ञ है जो नर्सिंग क्षेत्र के लिये सबसे प्रभावी वकालत करेंगें। 

यह सर्टिफाइड ग्लोबल नर्स कंसल्टेंट्स(CGNC) नीतियों के निर्धारण में नर्सों की आवाज़ को बढ़ाएंगे। साथ ही राष्ट्रीय और विश्व स्तर पर वर्तमान स्वास्थ्य चुनौतियों की प्रतिक्रिया में सुधार करेंगे और स्वास्थ्य सेवा के भविष्य को आकार देने के लिए सलाह भी  प्रदान करेंगे। ”

एक अन्य कॉन्फ्रेंस में CGFNS इंटरनेशनल के अध्यक्ष व CEO डॉ. फ्रेंकलिन ए शफ़र ने बताया- ” नर्सिंग को दुनिया के सबसे बड़े और भरोसेमंद स्वास्थ्य पेशा बनाने के लिए इस certification को शुरू किया गया हैं। इस CGNC कार्यक्रम की मदद से वैश्विक स्तर पर विशेषज्ञ नर्सो को सबसे आगे रखा जायेगा। इस कार्यक्रम को शुरू करने का इससे अच्छा समय नही हो सकता है क्योंकि इस Covid-19 के समय में पूरी दुनिया ने नर्सो द्वारा किये गए उल्लेखनीय कार्यो और उपलब्धियों को स्वीकारा हैं।”

इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज(ICN) दुनिया भर में लाखों नर्सो के प्रतिनिधित्व करने वाले लगभग 130 से अधिक राष्ट्रीय नर्सेज ग्रुप से मिलकर बना हैं। वहीं CGFNS इंटरनेशनल एक नॉन-प्रॉफिट संगठन है, साथ ही यह नर्सो व अन्य स्वास्थ्य पेशेवरों के लिये सबसे बड़ा क्रेडेंशियल्स मूल्यांकन करने वाला संगठन भी हैं। CGFNS 200 से अधिक देशों में नर्सिंग शिक्षा, लाइसेंस, मान्यता आदि देने का कार्य करता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here